Hindi Shayari

Posted On: 24-04-2020

Itne se zindagi per khwab bahut hai, Itne se zindagi per khwab bahut hai, Jurm kaa pata nahi per ilzaam bahut hai,

Posted On: 24-04-2020

🌍Duniya Mein succha iseq❤kebal 👨‍👩‍👧maa baap 👨‍👩‍👧karte hai, 🌍Duniya Mein succha iseq❤kebal 👨‍👩‍👧maa baap 👨‍👩‍👧karte hai, 🙎‍♀️Baki sab to bus ✅ iseq❤ ka dikhaba 👀 karte hain,

Posted On: 23-04-2020

Udash hoon tujhe se per naraj nhi hoon, Dil me hoon tere per tere pass nahi , Jhooth kaho too sab kuch hain mere pass, Jhooth kaho too sab kuch hain mere pass, Such kaho tere siva koi khash nahi hai,

Posted On: 23-04-2020

ki Humne Badal Diya naraz hone Ka Tarika, ki Humne Badal Diya naraz hone Ka Tarika, Ab Ham Ruthe ki jagah Muskura Dete Hain,

Posted On: 23-04-2020

नज़रे करम मुझ पर इतना न कर, की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं, मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की, मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं।

Posted On: 19-04-2020

में लिखता हूं शायरी वातावरण को देख कर।। में लिखता हूं शायरी वातावरण को देख कर।। अब वातावरण भी खुश हो गया है खुद को आईने में देख कर।। ।स्वच्छ भारत ।।

Posted On: 08-04-2020

Thujko maine chaaha tha iss qadar, Pagal tha main jo duniya se tha Bekhabar.

Posted On: 07-04-2020

Uski adat si hogyi h muje Uski adat si hogyi h muje Jase nasha sa Chad jata h jam pine ke bad .

Posted On: 04-04-2020

नजरें मिली प्यार हो गया, दिल मिला इकरार हो गया, मैं क्या बताऊँ यारो उनके बिना मेरा ज़िन्दगी बेकार हो गया।

Na pa saku, Na bhula saku, Tu meri majburi sa hain, Tere bin jee rahe hain hum, Aur jee bhi lenge, Fhir bhi tu jaruri sa hain............

जरा सी गलतफहमी पर ना छोडो किसी आपने का दामन कयोकी जिंदगी बीत जाती है किसी को आपना बनाने मे 🙏🙏🙏 plsss yr☹️ Akash mehra pb06

Posted On: 18-02-2020

Khamosh kar diya hai tere Alfaazo ne Kuchh iss Kadar ki ab sochte h hum Ajnabee Hi rehte to theek tha......

Posted On: 28-01-2020

जिंदगी में लिए हुए सारे फैसले सही ही हो, ये ज़रूरी तो नहीं , पर कम से कम ग़लत हो । ये जरू़री है ।

Posted On: 12-01-2020

Attitude ka nasha hum par khoob chada hai Dil hamara bohot bada hai tameez se baat kar chote tere aage tera NAWAB khada hai.....

Posted On: 08-01-2020

"फसल नहीं हुई" क्या करूं की मेरी मेहनत सफल नहीं हुई, कि इस बार भी खेत में वो फसल नहीं हुई । बिन बात भी जलते थे कुछ लोग मुझसे, पर इस बार किसी को कोई जलन नहीं हुई । लोग हिसाबे जमाना बदलते गए लिबाज़ अपने, पर हमसे कभी किसी की नकल नहीं हुई । यूं तो कोशिशें बहुत की जिंदगी में हमने, पर जिंदगी अपनी फिर भी सरल नहीं हुई । वो तो पूंछ लेते हैं मेरा हाल आज भी दोस्तों से, पर उनकी जिंदगी में हमसे कभी दखल नहीं हुई । कोई भी घोल कर पी जाए ऐसा मुमकिन नहीं है, हालत पतली है पर इतनी भी तरल नहीं हुई । यूं तो रोज डसते है आस्तीन के सांप मुझको, पर मुझे अब भी समझ इसां की असल नहीं हुई । पड़ गई है झुर्रियां जिम्मेदारी निभाने में, वरना जवानी में हमारे इतनी भी ढलन नहीं हुई । क्या किया क्या न किया ये तो याद नहीं मुझको, पर फलक पे जाने की उम्मीद अभी दफन नहीं हुई । छोड़ो नफरतें कि अभी प्यार की जरूरत है, याद रख कि जिंदगी किसकी यहां कफ़न नहीं हुई । "प्रवीण"