Hindi Shayari

मेरा आना..मेरा जाना..यूं ही नहीं है तुझे देखकर मुस्कुराना यूं ही नहीं है यूं तो गुजरता हूं कई रास्तों से लेकिन तेरी गली में ठिकाना....यूं ही नहीं है Shivkumar barman ✍️

Posted On: 27-08-2022

किसी से प्रेम करना और उस में डूब जाना कभी ग़लत नहीं हो सकता 🥀

Posted On: 03-01-2022

Un he lagta hae ke mohabbat ek dhoka hae. Un he lagta hae ke mohabbat ek dhoka hae. Kabhi do tu muqa laga denge chauka. Inhi adaun pe ham mar te hain. Marke bi ham rakh dete hain

Posted On: 09-12-2021

pyaar m to dhokha milna aam baat h MAGAR yari m BH dhoka milna bdi baat h

Posted On: 31-10-2021

कुछ नाशा तो आपकी बात का हैं । कुछ नाशा घीमी बरसात का हैं । हमे आप यू ही शराबी ना कहिए, ये नाशा तो पहला मुलाकात का है।

Posted On: 25-09-2021

कितना मुश्किल होता है न जब विश्वश की डोर टूट जाती है तब नज़रे मिलाना..

Posted On: 26-08-2021

Jo pani se nahata he bo libaz badlta हे Or jo pasine se nahata he bo etihas badlta he

Posted On: 16-08-2021

कभी ‌‍स्याही से भरा हुआ करता था यह कोरा कागज अब तो बस चंद छीटो की ही आश में है।

यूँ दर-ब-दर भटकना अच्छा नही ग़ालिब तुम्हे कौनसा इस शहर में पहचान बनानी है

Posted On: 09-08-2021

अकेले ही खुश है खिताब हमे आशिक़ मिजाज ना दे, चली जा रही हूं अपनी तनाहियो से बात करता है इश्क मुझे पीछे से आवाज ना दे

Posted On: 31-05-2021

मत फेक पत्थर पे पानी इसे भी कोई पिता होगा, जीना है तो मुस्कुरा के जियो तुमको भी देखकर कोई जीता होगा ।

Posted On: 17-05-2021

Posted On: 16-05-2021

Posted On: 05-04-2021

आग के पास कभी मोम को लाकर देखूं हो इज़ाज़त तो तुझे हाथ लगाकर देखूं दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगाकर देखूं

Posted On: 05-04-2021

दिलो की बात करता है जमाना, और मोहब्बत आज भी चेहरों से शुरू होता है।