Love Shayari

Posted On: 17-06-2021

गौर से देख देख इन हाथों में एक किस्सा लिखा है, देख इस दिल में तेरा हिस्सा लिखा है।।।

' Hota hai Agla Janam to ' Hota hai agar agla janam to Chahta hu fir se milo tum .. Fir se ho vo pehli mulaqaat Fir se ho vo pehli Baat. ... Chahat fir se jagey vo dil mei Tum ko apna banane ki , tumko paane ki Mehsoos fir ae kar saku mai Khushboo vo tumhari Fir fir se khush ho saku mai Vo har khushi mei tumhari Koshi fir se karu mai Tumko apna banane ki Shayad Meri kismat Roothi na ho uss janam mei Chahta hu fir se milo tum , Mujhko agle janam mei ....

Posted On: 06-05-2021

जब भी किसी निगाह ने मौसम सजाए है। तेरे लबों के फूल बहुत याद आए हैं। रिश्ते के वफाओं का इंतजार ,हम भी हवाओ में चिराग ले के आए है।

Posted On: 22-03-2021

Posted On: 17-03-2021

कि आपनी तमाम खुशिया इकठ्ठी हो गई और आपने सारे दोस्तो की शादीयाँ हो गई तो क्यू ना सपना सजाते है शाँपिग मे वर माला खरीद लेते है तो क्यू ना हम भी शादी कर लेते है

कोसिस तो दोस्ती की कीथी मगर इश्क़ का मामला हो गया एक भोला भला सावला सा लड़का मुझसे मिला और मेरी मोहोब्बत में वाबला हो गया

Posted On: 08-12-2020

सुनो तुम मेरी जिद नहीं जो पूरी हो, तुम मेरी जिंदगी हो जो जरूरी हो...!!

Posted On: 08-12-2020

दिल भी न जाने किस-किस तरह ठगता चला गया, कोई अच्छा लगा और बस लगता चला गया...!!

Posted On: 28-11-2020

लोग पूछते हैं कि तुम क्यूँ अपनी मोहब्बत का इजहार नहीं करते, हमने कहा जो लफ्जों में बयां हो जाए सिर्फ उतना हम किसी से प्यार नहीं करते....!!

Posted On: 27-11-2020

कोई हमें प्यार करे ऐसा कोई प्यार नहीं मिलता, जिंदगी भर साथ निभाए ऐसा कोई यार नहीं मिलता! दिल में उमंग है किसी से प्यार करनेकी.. मगर कोई हमें जीभरके प्यार करें , ऐसा कोई दिलदार नहीं मिलता....!!

Posted On: 26-11-2020

रास्ते खत्म हो जाते हैं चलते चलते, उमर यूं ही बीत जाती है किसी को चाहते चाहते, लफ्ज़ थक जाते हैं किसी का नाम लेते लेते, पर दिल नहीं थकता उसकी याद में रोते रोते....!!

Posted On: 18-11-2020

नजर से दूर है.. फिर भी फिजा में शामिल हैं किसी के प्यार की खुश्बू हवा में शामिल है..!!

सून गेले खूप दूर मनात माझ्या विचारांचे उठले काहूर जेव्हा सगळे माझ्यापासून गेले खूप दूर

Posted On: 24-10-2020

आज सब जोड़,घटा,गुना,भाग कर दे, तू ऐसा कर मेरी मोहब्बत का हिसाब कर दे, ओर तूने आखिर क्यों भूखा रखा है पिंजरे का पंछी, अगर ये दिल से उतर ही गया है तो इसे आज़ाद कर दे