Latest Shayari

चिखुं चिल्लाऊं मज़ाक बन जाऊं , इससे बेहतर है अंदर ही अंदर रोऊं और मर जाऊं...✍ ~भाई का छोटा भाई

Jitna Namaazi ke liye Masjid ka martaba hai Utna hi sharabi ke liye Maikada mukaddas hai FAKEERA THE GREAT FAKIR BADSHAH SAAB

Shayari aisi likho jo asaani se Samajh mein na aaye Jo baat samajh mein na aaye Ussey log phalsafa samajhte hai Aur uss ki badi tariff hoti hai

ज़िंदगी के तजुर्बे ने एक बात सिखलाई है , नया दर्द ही पुराने दर्द की दवाई है....✍ ~bhai Ka Chhota bhai

Dost se wafa ki ummeed Karta hai Bhai ke salaam ka jawaab Nahi deta

Andhere mein hum ko Aur junoon aata hai Dar bhi hum se ghabrata hai Khauff bhi hum se khauff Khata hai

Log na jane kaise khil khila Kar haste hai Idhar muskuraye hua ek arsa Ho gaya

कोई कांधे पर कमली ओढ़ कर घूमता था फ़कीर बादशाह साब सर पर कफ़न बांध कर झुमते है Koi kandhe par kamli odh kar Ghumta tha Fakir badshah Saab sar par Kafan bandh kar jhumte hai

Yaa allaah aye mohammad Jane kya baat hai Mere musalmaan hone ki Wazah se log mujhe nafrat Ki nazaar se dekhte hai

कबूल है की मुझे जी भर के बुरा कहा जाए , मगर जो भी कहा जाये दिल से कहा जाये....✍ ~भाई का छोटा भाई

Posted On: 27-10-2020

उसकी बुजती हुई आँखोंने कुछ तो कहा होगा डूबती हुई सांसोने कोइ सन्देश तो दिया होगा जो ख़्वाब संजोए हमने हर एक ख़्वाब दिखाई दीया होगा छूटती हुई धड़कनोको टूटता आईना सुनाई दीया होगा

हम रोज उदास होते है और शाम गुजर जाती है , किसी रोज शाम उदास होगी और हम गुजर जायेंगे....✍ ~भाई का छोटा भाई

वक़्त हर वक़्त को बदल देता है सिर्फ वक़्त को थोड़ा वक़्त तो दो!!

रात क्या होती है हमसे पूछिए , आप ऑख बंद किए तो रात कम पड़ गई...✍ ~भाई का छोटा भाई

किसको दर्द बताऊ किसको दास्ता सुनाऊ यहां सब बहरे हैं , जख्म तो नहीं हैं पर कैसे बताऊं कि दर्द गहरे हैं....✍ -bhai Ka Chhota bhai