Latest Shayari

Ishq duniya ki nazar se chupa kar hota hai toh meetha lagta hai Duniya ki nazar mein aate hi kadwa ho jata hai

Saadagi se dil ko saaf kar de Kisi se kisi baat ka badla na le maaf karde

Pyaar ki dhoka dhadi awaara na bana de kahin Tumhari ye khush mijazi tumhe maskara na ban de kahin

Band hi kar do unhe tum bhi dekh na Joh tumhe dekh kar nazre pher lete hai

Iss chaabaaz duniya mein nadaan hi bane rahna Hoshyaari ka anjaam bura hota hai Joh hansata hai mehfil mein sab ko wohi aksar tanhaai mein baith ke rota hai

Band kardo tum unhe awaaz dena Joh tumhari awaaz sunkar bhi anjaan bante hai

Bandh karlo tumhari ye madh mast ankhen Warna koi tumhari iin nigahon ke samandar mein doob jayega

Aye meri jaan e hayat main tujh se oob raha hoon Aye zindagi main khayaalon ke toofan mein doob raha hoon

Posted On: 24-01-2021

जिसे "मैं" की हवा लगी उसे फिर ना दवा लगी ना दुआ लगी

Nazdikiyon se rishton mein duriya aa gayi hai Iss sard o suhane mausam mein bhi talkhiyan aa gayi hai

क्या लिखूं मैं अपने अल्फाज में , जब इंसानियत ही नहीं रही इंसान मे, क्या इनको नहीं दिखती गांव घर की मां बहन बेटियां , तो आखिर इनके घर कौन बनाता है रोटिया , क्या लिखूं मैं इंसानों के बारे में , मेरी कलम शर्म से डर गई, जैसे मैं इंसान लिखा तो खुद म खुद , मेरी कलम लिखदी की इंसानियत तो मर गई, क्या लिखूं मैं अपने अल्फाज में , जब इंसानियत ही नहीं रही इंसान मे, परिया निकली नहीं घर से कि बाज पैर मारने लगते है , ये जल्लाद मां बहन बेटियों को ताडने लगते हैं, मै भगवान से रोज यही प्रार्थना करता हूं , कि किसी मॉ बहन बेटियों की इज्जत पर आंच ना आए , बेशक दो चार जल्लाद बेमौत मर जाए , क्या लिखूं मैं अपने अल्फाज में , जब इंसानियत ही नहीं रही इंसान मे, मै भाई का छोटा भाई लिख तो रहा हूं पर शायर नहीं हू , और किसी मां बहन बेटियो के ईज्जत पर , कोई किचड़ उछाले और मैं चुप खड़ा रहूं इतना बड़ा कायर तो नहीं हू , क्या लिखूं मैं अपने अल्फाज में , जब इंसानियत ही नहीं रही इंसान मे, आप सब से हाथ जोड़कर विनती है, कि संभाल कर रखना अपनी फूल जैसे औलाद को, ये जल्लाद बेऔलाद बैठे हैं ,इनको क्या कहूं जिनको शर्म ही नहीं, ये शर्म को घोल कर पी बैठे हैं , मैं ये इसलिए नहीं लिख रहा हूं कि आज है 24 जनवरी , बल्कि इसलिए लिख रहा हूं की हर रोज दम तोड रही अपनी एक परी, क्या लिखूं मैं अपने अल्फाज में , जब इंसानियत ही नहीं रही इंसान मे, क्यू कर रहे हो जल्लादों हम सब को बिबस , आंसू आ गए कैसे बताऊं कि आज है बालिका दिवस, क्या लिखूं मैं अपने अल्फाज में , जब इंसानियत ही नहीं रही इंसान मे.....✍️ ~~भाई का छोटा भाई~

Lakh ibadat kar le par maa ki seva nahi ki toh Khuda ko khush karne layak koi kaam nahi kya

Maa ki dua uske sab bachchon ke saath hoti hai Par uske sab bachche khush naseeb nahi hote koi bad naseeb bhi hota hai

Maa ki kadar nahi jisko woh bad naseeb hota hai Khud apni hi zindagi ka dushman khud apna hi raqeeb hota hai

Aaj maa nahi bas maa ki yaad hai Wohi meri manzil thi wohi meri buniyaad hai