Latest Shayari

Jab tak dharm mazhab religion ke saanp insaaniyat ko danste rahege Tab tak insaanon ke gale mein tabai barbadi ke phande kaste rahege

Insaan apni hawas ke haathon barbaad hai Khamakha badnaam hai mohabbat

Insaan se insaan ko nafrat karna sikha te hai sab Insaaniyat ke chehre par ek bad numa daag hai dharm mazhab

Insaan se insaan ko nafrat karna sikha te hai sab Insaaniyat ke chehre par ek bad numa daag hai dharm mazhab

Zindagi ki tez Raftaar se adami haar kar rah gaya Main to doob gaya Main to bah gaya Achcha achcha yehi kah gaya

रजाई एक नशा है , और मैं इस वक्त नशे में हूं....✍️ ~~भाई का छोटा भाई~

Woh to upar se dikhai deta hai khush haal Andar to hamesha hi rahta hai be haal

Khil khila ne walli thi aaj meri tanhai Tere aane ki umeed thi par tu nahi aayi

Mujhe pareshaan na kar main gham kash hoon Dard ae ishq mein aye ghame zindagi

आस्मां अपना है यारों ये ज़मीं है मेरी , किस्मत में बस यही छोटी सी कमी है मेरी , लोग खिलाफ़ है मेरे तो खिलाफ़ रहने दो , ज़िंदा हूँ तो मुखालफ़त भी लाज़मी है मेरी , कोई आकर दिलासा देदे मुझे कि आज , दिल उदास है और आंखों में नमी है मेरी , जिम्मेदारियों के कारण आज घर से दूर हूं , तो भाई फ़ोन करता है कि कमी है मेरी , परिवार व मां बाप की याद आती है , तो आंखें नम हो जाती है मेरी , क्या करूं रखवाला हूं सरहद का मै, इसीलिए तो मां के पास कमी है मेरी , मेरी जन्म देने वाली मां को मेरे भाई संभाल लेगे, पर जब से सरहद पर आया हूं तो पहले धरती मां है मेरी , क्या करूं मुझे भी अपनी जननी मां की याद आती है , रो देती होगी मेरी मां जब उसको महसूस होती होगी कमी मेरी , कैसे कहूं मां की सबसे पहले है , यह भारत की जमी मेरी, पापा का फोन आया बोले वहां बहुत सर्दी होगी क्योंकि वहां है तू रेत में , मैंने कहा पापा इतनी सर्दी नहीं जितनी वहा पानी लगाते समय रहती है खेत में, इस कविता में मैंने अपनी और परिवार वालों ने मेरी कमी बताई , यह कविता लिखने वाला मै भाई का छोटा भाई....✍️

Hazaaron koshish karte hai lakh tarkeeb lagate hai kuch bad naseeb Umeed par jeete hai naumeedi mein mar jaate hai aksar gareeb

मत मारो मुझे लट्ठ मै पहले से एक दुखी इंसान हूं , मेरी लट्ठ खाने कि वजह यही हैं कि मैं एक किसान हूं....✍️ ~~भाई का छोटा भाई~

Ek se badhkar ek kalakaar hai duniya mein Bachchan Kismat ka shukra adaa kar ke usne tujhe bhagyawaan banaya

Idhar duniya mein itne namaz roze ke baad bhi akhirat ke naam par garibon ko pahchaan ta nahi Udhar akhirat mein duniya ka naam lekar muh pher liya to sab ibadat gayi na paani mein Jhoothon ka kya bharosa

Naraazgi chahe jitni bhi ho koi dil se maafi mangle to maaf kar dena chahiye Par sawaal ye hai ke pata kaise chale ke koi dil se maafi mang raha hai