Latest Shayari

Posted On: 28-08-2020

इजाजत नहीं देती है मुझे मेरी वफाएं, कि फिर से चांद ढूंढता हुआ आसमाॅ निहारूॅ!!

Posted On: 28-08-2020

तु वो चाँद है जिसे मैं पाना नहीं चाहता, पर तुझे देखने का एक भी मौका गवाना नहीं चाहता, तुझे दूर से चाहना मंजूर है मुझे, मेरी इसी इबादत पर गुरूर है मुझे।;

मैंने वफ़ा की फिर भी महबूब खो दिया, पूरी महफिल को पता चला, पूरी महफिल रो दिया!!

रोती हुई आँखो मे इंतेज़ार होता है, ना चाहते हुए भी प्यार होता है, क्यू देखते है हम वो सपने.. जिनके टूटने पर भी उनके सच होने का इंतेज़ार होता है

Posted On: 27-08-2020

मेरी भी एक चाँद थी, मुझे भी गुमान था... हाँ... इतना जरूर मैं भूल गया .. कि उसका सारा आसमान था...!!

जिनको मैंने जन्नत मानी है उसने मेरे लिए मन्नत मांगी है

मैने तुझे चांहा था तेरे प्यार के समंदर में डूबकर। जिन्दगी का हर ख्वाब अधूरा सा रह गया तेरा साथ छूटकर । लोग तो यूं ही कहा करते है कि हर मर्ज की दवा मिल जाती है। लेकिन मै कैसै मान लूं कि वो सीसा जुड जायेगा जो कल टूटा था भरी महफिल में उसके हाथों से छूट कर...!!

कोशिश करते रहें, हार हो या जीत... जीत गए तो मीत है हार गए तो प्रीत...

Posted On: 27-08-2020

सुन्दर अनुहार भएको मान्छे त मिलीनै हाल्छ तर जसको मनै सुन्दर हुन्छ नि त्यो किस्मत वाला मात्र मिल्छ Suresh karki ✍️

खुदा तेरा इंसाफ भी बहुतों को खटकता है, कोई भूखा, कोई आशिक, आखिर क्यों भटकता है..?

Hamari nazar se kuch Nahi chupa hai Agar ishwar allaah god Vagayra vagayra hote To kahin na kahin Nazar aa gaye hote Apne ibadat gaah tootne Aur jalne se bachate hua Aur apne bina matlab ke Be asar bakwaas kitabe fatne aur jalne se bachate hua Savdhan jo khud apni Raksha nahi kar sakte Woh teri kya hifazat karege FAKEERA THE FAKIR BADSHAH SAAB

Ye duniya hi narak hai Dukh dard taqleef sab Bas yahaan hi hai Ek baar mar gaya to Phir sab swarg hi swarg hai FAKEERA THE FAKIR BADSHAH SAAB

Chahe ho poonam ya phir ho amaavas Bahaddur aur nidar rahe jas ke tas FAKEERA THE FAKIR BADSHAH FAKIR

Posted On: 24-08-2020

मुटुमा तिमीलाई राखेको थिए तर भाग्य मा रहेनछ Suresh Karki

Posted On: 24-08-2020

मुटुमा तिमीलाई राखेको थिए तर भाग्य मा रहेनछ