Latest Shayari

Posted On: 12-09-2020

रूह को चाहने वाले अब तो शायर हो गए, जिस्मों को चाह रखने वाले आशिकी में माहिर हो गए!!

Posted On: 12-09-2020

इन होठों पे वही ख्वाहिश है, दिल में भी वही अफ़साने हैं, तू अब भी मदहोश गजल है, हम आज भी तेरे दीवाने हैं!!

शदीद प्यास थी, फिर भी न छुआ पानी को, मैं देखता रहा दरियाँ, उसकी रवानी को!!

जरूरत से ज्यादा आराम, और हद से ज्यादा प्रेम, इंसान को अपाहिज बना देता है!!

जीवन नर्क बना हुआ है, क्योंकि हम सब प्रेम चाहते हैं, प्रेम देना कोई नहीं चाहता!

Koi hamare raaste mein aaye Kisi ki majaal hai Raaste mein har jagah bikhara huaa hamari nazron ka haal hai FAKEERA THE FAKIR BADSHAH SAAB

Kab tak dusron ke banaye hua Khudaon ki ibaadat karega Ek apna khud ka khuda taiyar kar Aur uski ibaadat kar FAKEERA THE FAKIR BADSHAH SAAB

Jahaalat se bahar nikley bina kuch nahi hoga Aur hum jahaalat se bahar Niklege nahi chahe kuch ho jaye FAKEERA THE FAKIR BADSHAH SAAB

Woh namaaz mein bhi rupaye paison ki sochta hai Usey duniya daari ki fikar hai Usey bas daulat par hi bharosa hai Uski zubaan par allaah ka toh yunhi Zikar hai FAKEERA THE FAKIR BADSHAH SAAB

Din katta hai mar mar Nind nahi aati hai Raat raat bhar Aye ishq ye tera asar FAKEERA THE FAKIR BADSHAH SAAB

Ghar se masjid Masjid se gar ke bich mein Bahot modh aate hai Adami mar jaye toh Usey kabristan chodh aate hai FAKEERA THE FAKIR BADSHAH SAAB

Ibaadat woh jo aadmi ko insaan bana de Yeh sab ibaadatey to insaan ko Shaitan bana dete hai FAKEERA THE FAKIR BADSHAH SAAB

Baat bigad ne ke baad Baat samajh me aati hai Gardish ke daur mein adami ko Sahi galat ka hosh nahi rahta FAKEERA THE FAKIR BADSHAH SAAB

Posted On: 09-09-2020

मीठे बोल बोलिए क्योंकि अल्फाजों में जान होती है, इन्हीं से आरती, अरदास, अजान, होती है, ये दिल के समंदर के वो मोती है "दोस्तों" जिनसे इंसान की पहचान होती है!!

Posted On: 09-09-2020

चाहे जितनी रहूँ मशरूफ जितने हो काम.... मन के किसी कोने में गूंजता है तेरा नाम....!!