Bewafa Shayari

आज उनको याद करके रोया । उनकी तस्वीर को सीने से लगाकर रोया ।। में रोया हूँ इस कदर उस बरसात से पुछो । जो अपने प्यार के लिए बिन मोसम रोया ।। By- S. Deepak Bhardwaj Singh

मैं शायर नही .......मैं शायर नही .......। मुझपे जो बीती मैं ओही लिखता हूँ ।। मैं लिखता हूँ किसी की याद में । और लोगों को लगता हैं मैं शायरी लिखता हूँ ।। By - S. Deepak Bhardwaj Singh

काश खुदा ने हमें आपसे मिलाया ना होता । प्यार का फुल हमारे दिल में खिलाया ना होता ।। बड़े आराम से काट लेते जिन्दगी आपनी ।। काश हमने तुमसे दिल कभी लगाया ना होता ।। By - S. Deepak Bhardwaj Singh

मुझें मत दफना अभी मेरे दोस्त । मेरे जिक्र का किशसा बांकी है । ओ हमसे मिलने आ रहे हैं । इस आस मे मेरी सास कुछ पल बांकी है । बरसों इन्तज़ार किया है इस पल का । हमारी अभी अधूरी मुलाकात बांकी है ।। BY- शायर दीपक भरद्वाज सिंह

हमारे सिवा तेरा ज़िकर कोई और करे ये हमे गवारा नहीं । तेरी रूह को कोई और छुए ये भी हमे गवारा नही ।। हम तो खुदा से भी टकरा सकते हैं आपकी खातिर । हवा भी तुमको छु कर गुजरे ये हमे गवारा नहीं ।। By- S. Deepak Bhardwaj Singh

मयखाने मे छलकता शराब लीये बैठा हूँ मैं । किसी की याद में उनकी तस्वीर को सीने से लगाए बैठा हूँ मैं । मुझे मालुम है नही आएगी ओ मेरे जनाजे में । फिर भी अपनी अर्थी को सड़क पर सजाए बैठा हूँ मैं । By- S. Deepak Bhardwaj Singh

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 ⚘⚘लव यू & मिस्स यू 2511⚘⚘ ⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘ वो हमें इस कदर भूल जाएंगे ये हमने सोचा ना था । ⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘ हमारे दिल को यूं तोड़ जाएंगे ये हमने सोचा ना था । ⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘ क्या खता थी हमारी जो यह सजा मिली है हमको । ⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘ जिसको दिल से चाहा वही बेवफा हो जायेंगे ये हमने सोचा ना था । ⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘ 🍁🍁By- S. Deepak Bhardwaj Singh🍁🍁

🌺किसी की याद में अपने आंसुओं को कभी सूखने न दिया । 🌷🌷🌷🌷 इन आंखों में उनकी जो तस्वीर थी वह कभी मिटने न दिया ।🥀🥀🥀🥀🥀 न दिया इस दिल में जगह उसके सिवा किसी ओर को । ⚘⚘⚘⚘⚘⚘ अपने लबों पे उनके नाम के सिवा किसी ओर का नाम आने न दिया । ⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘ 🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀 🥀MISS YOU 2511🥀 🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀 🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 ⚘⚘⚘BY- शायर दीपक भरद्वाज सिंह⚘⚘⚘

उन भारत के गद्दारों को बस एक सबक सिखाते। जिस सभा में की थी उन्होने के विभाजन की बात उसी समय उसी सभा में उनका शीश काट गिराते।

न जाने क्यों आज कल तुम इतने खफा होते जा रहे हो। बफा तो बहुत देखी थी मैंने तुम्हारे अन्दर पर न जाने क्यों तुम इतने बेबफा होते जा रहे हो।

Posted On: 28-07-2020

ओ रात गमो कि रात थी, जिस रात रुखसत उनकी बारात थी। उठ जाते है आज भी नींद से, की एक गैर कि बाहों में अपनी सारी कायनात थी।।

Posted On: 20-07-2020

हर बख्त दिलमे तेरा खयाल आता है किसि हसीना को देख्ते हि तेरा खयाल आता है तुहि बता अब ईस दिलका क्या करुँ मे क्युँकि सोते जागते दिल मे बस तेरा हि खयाल आत है ।। ललित नेगी

Posted On: 15-07-2020

हम भी रोज तेरे इंतज़ार में वही जाते है, जहां अक्सर खड़े होकर हम साथ रोया करते थे, आज भी तेरे जाने के बाद वह दो फूल मिल जाते है

“Vho jo puchte the pta kabhi, Vho jo puchte the pta kabhi” “Lapta ho gye dekhte dekhte, Lapta ho gye dekhte dekhte"

मैने तुझे चांहा था तेरे प्यार के समंदर में डूबकर। जिन्दगी का हर ख्वाब अधूरा सा रह गया तेरा साथ छूटकर । लोग तो यूं ही कहा करते है कि हर मर्ज की दवा मिल जाती है। लेकिन मै कैसै मान लूं कि वो सीसा जुड जायेगा जो कल टूटा था भरी महफिल में उसके हाथों ्से छूट कर