Dard Bhari Shayari

Vo aakhri din hoga jis din tum na ho meri jindagi main Vo aakhri pal hoga jis din na hooo... tum

PAS AKAR BHI DUR CHALE JATE HAI HUM AKELE THE AKELE HI REH JATE HAI APNE DARD DE DIL KA HAL KISE DIKHAYE HUM MARHAM LAGANE VALE HI ZAKHAM DE JATE HAI

PYAR ME PAL PAL MARTA KON HAI PYAR TOH HO JATA HAI KARTA KON HAI OR HUM TOH KARDE PYAR ME JAAN BHI KURBAN PEHLE PATA TOH CHALE KE HAMSE PYAR KARTA KON HAI

JANGAL ME BAAG TOH BAHUT HAI PAR HAR BAG SAMJDAR NAHI HOTA OR DIL KI BAAT HAR KISI SE MAT KARNA KYO KI SUN NE VALA HAR KOI SAMJDAR NAHI HOTA

Pyar karte time jaan se b zyada humari care karte ho.. Par dhur hone k baad hamari yaad b nai aati aapko aisa kyu.

Posted On: 11-02-2019

Mere dost jingi bhar mujhe yohi pyar karna Mai dga na tujko doga mera yatbar karna Abhi apni kismato ke sitare Dard me hai Abhi kuch Dino tak mera intjar karna

Posted On: 11-02-2019

किसी के हाथ का कंगन खनक ना भूल बैठा है कोई सिंगार करके भी महकना ना भूल बैठा है चले आए हो जब से छोड़ कर तन्हा किसी को तुम अब उसके सर के आंचल भी सरकाना ना भूल बैठा है।।

धूप से रूप तेरा बचाऊंगा मै सर पे रखना मुझे ओढ़नी की तरह , मेरी आंखों का पछताव ठुकरा कर के , तू मुझसे यूं ना मिलो अजनबी की तरह।

क्यों दिल के इतना करीब आ जाता है कोई क्यों प्यार का एहसास करा जाता है कोई जब आदत सी हो जाती है दिल को उसकी क्यों इतना दूर चला जाता है कोई

Posted On: 09-01-2019

आंखों को देखकर इंतजार का हुनर चला गया .. . चाहा था एक शख्स को ..... ना जाने किधर चला गया ...

Posted On: 07-01-2019

हवा चुरा ले गई थी मेरी गजलों की किताब, देखो आसमान पढ़ के रो रहा है, और नासमझ जमाना खुश है कि बारिश ही रही है ।।

Posted On: 05-01-2019

जब तक तू मेरे साथ है, मैं हर पल तेरा साथ निभाऊंगा, तु मुझे छोड़ कर चली जाएगी ना, तब भी मैं हर मुश्किल में तेरे साथ नजर आऊंगा ,अगर तेरी खुशी किसी और के साथ है , तो तू उसके साथ चली जाना अरे मैं तो वो आशिक हूं ,बस तेरी गमों को अपना बनाऊंगा।। Yashraj

Dekhna ho Unhe to door se dekha karna Ishq ka kaam Nahi husn ko ruswa karna

Aur fir Tu mera Naa huwa Jab se dekha he tumhe dilse,, bejaar Ho Gaya Aankho,n me dekhTe hi giraftaar Ho gaya!!

Posted On: 02-12-2018

अरे उसके लिए सारी दुनिया से बगावत की थी ।। अरे याद आता है की हमने भी किसी से मोहब्बत की थी ।।उसको छोड़ कर हंसते हुए आए हम।। घर आकर इतना रोए कि हमारी आंखों ने भी हमसे शिकायत की थी।। Yashraj