Dard Bhari Shayari

मै ढूँढने लगा वो खो गया उसने पूछा तक नहीं वो परछाई की तरह अंधेरे मै गायव हो गया जब उज्वल पहर हुआ तब तक मै खफा हो गया ✍️ #Lakhwinder singh chahal

गम लाखों हैं दिल में हैं मेरे, है मुस्कुराहट चेहरे पर, वो समझें कि मैं खुश हूँ बहुत , दुःख काफी दिल मैं गहरे पर, सब पूछते क्या दुःख है तुझे, मैं कह नहीं सकता ज्यादा कुछ, कह सकता हूँ इतना पर, दिल खोल नहीं सकता आगे सबके, गम बैठा दर (दरवाजा) के पहरे पर, गम ही है एकमात्र भाव,जो छुपा नहीं सकता कोई, गर छुपा लिया तुमने इसको, तुम कहलाओगे अद्भुत नर ।।

🌹 मोहबत को जो निभाते हैं उनको मेरा सलाम है, और जो बीच रास्ते में छोड़ जाते हैं उनको, हुमारा ये पेघाम हैं, “वादा-ए-वफ़ा करो तो फिर खुद को फ़ना करो, वरना खुदा के लिए किसी की ज़िंदगी ना तबाह करो”

Bhaut maasruf ho kisi gair Ko apna bananai Mai... Tabhi toh merai mehfil Mai hotai huai bhi., Tumhari aakhon Ko aab meri talaash nhi Hoti...!!

NEVER LET YOUR FEELING GET TOO DEEP. PEOPLE CAN CHANGE ANYTIME

Posted On: 18-05-2019

याद आएगी तेरी हर रोज मगर तुझे आवाज न दूंगा , लिखूंगा तेरे लिए ही हर लफ्ज़ मगर तेरा नाम न लूंगा।

Agar vo sharab bhi pila de Toh has kr m pi lu.... Agar vo sharab bhi pila de Toh has kr m pi lu... magar phir yaad aaya... Uss ek insan ke liye.. M khuda se kaise bair le lun

Kamal Gupta Ab toh ye Aadat ban Gaya hai ...... Tum Dard do aur hum muskurane I miss you

Yeh Jo Sukhi tahaniyon Main nami bachi hai na...... ISI ko yaad kahte hain i miss you. 😧😢

Meri Mohabbat Bezubaan Hoti Rahi Dil Ki Dhadkane Apna Wajood khone Lagi Koi nahin aaya mere Dukh me kareeb Ek Barish Thi Jo Mere Sath hoti Rahi

ख्वाबों में बो तीर चला कर चली गई, मैं सोया था गहरी नींद जगाकर चली गई, मैने पूंछा चांद निकलता है किस तरह, तो चेहरे से अपने जुल्फ हटाकर चली गई..

Vo aakhri din hoga jis din tum na ho meri jindagi main Vo aakhri pal hoga jis din na hooo... tum

PAS AKAR BHI DUR CHALE JATE HAI HUM AKELE THE AKELE HI REH JATE HAI APNE DARD DE DIL KA HAL KISE DIKHAYE HUM MARHAM LAGANE VALE HI ZAKHAM DE JATE HAI

PYAR ME PAL PAL MARTA KON HAI PYAR TOH HO JATA HAI KARTA KON HAI OR HUM TOH KARDE PYAR ME JAAN BHI KURBAN PEHLE PATA TOH CHALE KE HAMSE PYAR KARTA KON HAI

JANGAL ME BAAG TOH BAHUT HAI PAR HAR BAG SAMJDAR NAHI HOTA OR DIL KI BAAT HAR KISI SE MAT KARNA KYO KI SUN NE VALA HAR KOI SAMJDAR NAHI HOTA