Dard Bhari Shayari

दर्द भरी शायरी, Dard Bhari Shayari, Dard Bhari Shayari in Hindi

Read and write दर्द भरी शायरी, dard bhari shayari, dard bhari shayari in hindi on Shayari Books. Shayari Books is a best platform for individual to write shayari book free of cost.

क्या दू में अपने चाहत का नजराना फकीर जो तूने बना दिया एक दिल बचा है इस सीने में ला खंजर दू निकाल मै तेरी हथेली पे

Posted On: 27-08-2019

तुम क्यों उसपर हर बार फना हो जाते हो ............... वो बेरहम तुम्हे आजमाइश की निगाह से देखता है

"Yeh kaisi Judai ki tujhe alvida bhi na keh saka, Tere dil me rehne ki tamnna thi, "mager tere shehar me bhi na reh saka.

Main Tumse pyaar karne ki koshish karta hoon par Main ye nahin janta ki aap hai kon

न पूछो राहत मेरी तेरी इस तन्हाई के बाद ,रस्ते भी खो गये है तेरी इस रुसवाई के बाद ,सांसो को तड़पाती है हर पल तेरी घटा यादो की ,बेजान से हो गयेहै तेरी इस जुदाई के वाद।

Kuch to milega sach ke behta ta ek din woh mujhe phir se bhoolaiga aya ek din hawa mujhko bhoolaya esa kuch keh gaya anchu behne laga....

मुझे फिर से पाने की फरियाद न करना रहना दूर मगर फिर से याद न करना यूँ वफा-ए-इश्क से नफरत कर बैठें हैं हम अब मोहब्बत का कोई हमसे इजहार न करना।

मै ढूँढने लगा वो खो गया उसने पूछा तक नहीं वो परछाई की तरह अंधेरे मै गायव हो गया जब उज्वल पहर हुआ तब तक मै खफा हो गया ✍️ #Lakhwinder singh chahal

गम लाखों हैं दिल में हैं मेरे, है मुस्कुराहट चेहरे पर, वो समझें कि मैं खुश हूँ बहुत , दुःख काफी दिल मैं गहरे पर, सब पूछते क्या दुःख है तुझे, मैं कह नहीं सकता ज्यादा कुछ, कह सकता हूँ इतना पर, दिल खोल नहीं सकता आगे सबके, गम बैठा दर (दरवाजा) के पहरे पर, गम ही है एकमात्र भाव,जो छुपा नहीं सकता कोई, गर छुपा लिया तुमने इसको, तुम कहलाओगे अद्भुत नर ।।

🌹 मोहबत को जो निभाते हैं उनको मेरा सलाम है, और जो बीच रास्ते में छोड़ जाते हैं उनको, हुमारा ये पेघाम हैं, “वादा-ए-वफ़ा करो तो फिर खुद को फ़ना करो, वरना खुदा के लिए किसी की ज़िंदगी ना तबाह करो”

Bhaut maasruf ho kisi gair Ko apna bananai Mai... Tabhi toh merai mehfil Mai hotai huai bhi., Tumhari aakhon Ko aab meri talaash nhi Hoti...!!

NEVER LET YOUR FEELING GET TOO DEEP. PEOPLE CAN CHANGE ANYTIME

Posted On: 18-05-2019

याद आएगी तेरी हर रोज मगर तुझे आवाज न दूंगा , लिखूंगा तेरे लिए ही हर लफ्ज़ मगर तेरा नाम न लूंगा।

Agar vo sharab bhi pila de Toh has kr m pi lu.... Agar vo sharab bhi pila de Toh has kr m pi lu... magar phir yaad aaya... Uss ek insan ke liye.. M khuda se kaise bair le lun

Kamal Gupta Ab toh ye Aadat ban Gaya hai ...... Tum Dard do aur hum muskurane I miss you