Best Quotes in Hindi

छुपानी पड़ती है दिल की सच्चाई कभी कभी , बहुत बुरी लगती है ये अच्छाई कभी कभी , लोग पूछते हैं तू अपने बारे में कुछ बताता क्यों नहीं , सच सच अपनी जिंदगी को जताता क्यों नहीं , हर पल जख्म गम लिखता रहता है , तू दो पल हंस कर बिताता क्यों नहीं , सब के बारे में लिखता रहता है , तू अपने बारे में कब लिखेगा , जब दुनिया तुझे गलत समझ जाएगी , क्या तब तू सीखेगा , मैं गलत हूं कि सही मैं खुद ही खुद को परखूंगा , यह दुनिया है दोस्त भगवान को भी बुरा कहती है , अगर यह दुनिया एक दर्द सहती है , तो 1000 लफ्ज़ भगवान को गलत कहती है , खैर छोड़ो ये तो इंसान हैं , अब इंसानों में इंसानियत कहां रहती है , मुझे गलत समझने वाले समझ जाओ , तुम्हारी समझदारी ही इतनी है , मैं अपनी अच्छाई के बारे में क्या लिखूं , जितना तुम समझ गए मुझे , औकात ही तुम्हारी उतनी है, खैर छोड़ो साहब , बहुत सारी बातें बता दिया , भाई का छोटा भाई अपने बारे में जता दिया , हर वक्त लिखता था अपनी जिंदगी का गम , आज इस कविता में खुद को ही अजमा दिया....✍️

जो मिला उसे गुजारा ना हुआ । जो हमारा था हमारा ना हुआ । हम किसी और से मनसुब हुए क्या ये नुकसान तुम्हारा ना हुआ, खर्च होता रहा मोहबब्त में फिर भी इस दिल को खासारा ना हुआ, दोनों एक दूसरे पे मरते रहे कोई अल्हा को प्यारा ना हुआ । बेतकल्लुफ़ भी वो हो सकते थे हमसे ही कोई इशारा ना हुआ.….... ❤️ शुभ रात्रि❤️

लिखता तो मैं खुद ही हूं , पर पढता कोई और है , तू तो अपना है दोस्त , मैं तुझे कब बोला कि तू गैर है , यह तू गैर गैर कहना छोड़ दे , अगर अपना नहीं समझता है , तो दोस्ती तोड़ दे , जब मुझे तू अपना समझता ही नहीं , तो फिर मुझे समझाने क्यों लगता है , मैं तुझे गैर बोलूं यह कभी हो सकता है , अब रहने दे भाई ज्यादा प्यार मत जता , तुम मुझसे गुस्सा क्यों हो सच सच यह बता , मतलब कि एक छोटी सी बात लेकर मुंह फुला लिया , छोटी सी बात के लिए भाई को भुला दिया , तू क्या कहता है, ऐसी बात के लिए दोस्ती तोड़ दूं , तू कहे तो मैं दुनिया छोड़ दू , अब ज्यादा प्यार मत जता , मैं क्या बोला जो तुझे बुरा लगा , सच सच ये बता , मैं तो किसी को कोई बात भी नहीं बताई, मैं क्या लिखूं दोस्त तेरे लिए, मैं ही पागल भाई का छोटा भाई....✍️ ~भाई का छोटा भाई

बाते बनाने वालो को मौका मत दो, मेहनत करो खुद को धोका मत दो।

जिंदगी में गम , गम में हम , हम मे रम , रम मे नशा , और मैं नशे में हू, नशा मुझ में नशा किसी और का , नशा मुझ में नशा किसी और का , यह नशा अपना ही है ना की किसी गैर का , कोई तो अपना समझ कर प्यार से बोल लो , ए दोस्त एक दो बोतल और खोल लो, मैं ऩशे में हू , थक गया जी जी कर , अब और जीने का मन नहीं कर रहा , ले चलो यार कोई बडे मयखाने मे, आज मेरा और पीने का मन कर रहा, मैं नशे में हू , कोई भांग घोटो , कोई चिलम के लिए पत्ता लाओ , मेरे और दोस्तों को बुलाओ , मै नशे में हू, सचिन महफिल जमाओ समा में , आज मै नशे में हू , हुक्का फूक दूंगा हवा , मै नशे में हू, कोई ताश के पत्ता लाओ कोई सट्टा खेलने वालो को बुलाओ , सट्टा खेलने में शाहजहां भी होगा , चाहे सट्टा कहीं भी होगा, अगर मैं सट्टा हारा तो मयखाना छोड़ देंगे , सट्टा जीता तो ताजमहल खरीद लेंगे , मैं नशे में हू, और बता देना मोहतरमा को अपने शाहजहाँ, अब वो ताजमहल शाहजहां का कहा, मैं नशे में हू, गिनती के मैं पैक नहीं मारता, पैक मार के गिनती भूल जाता हूं , और दो घूट अंदर गई ना , तो अपने दोस्त को ही विधायक बताता हूं , मैं नशे में हू , कि सिगरेट बुझनी नहीं चाहिए , दो पैक और बना लो , सिगरेट को छोड़ो यार , हुक्का ही जला लो , खैर छोड़ो मैं नशे में हू , दारु कम पड़ गई तो मैं कैसे जी पाऊंगा , दो चार बोतल और मगालो मैं पूरी पी जाऊंगा , मै नशे में हू , नशा नशा लिखकर , भाई का छोटा भाई की कलम नशे में हो गई, मैं शराब लिखना चाहा और वो पूरा पेज खराब कर गई , मैं नशे मे हू...✍️ ~भाई का छोटा भाई

🌹🌿🍁🌿🌹 *मनुष्य का अमूल्य धन* *उसका व्यवहार है,* *इस धन से बड़कर* *संसार में कोई और धन नहीं।* *पैसा आता है चला जाता है,* *पैसा आपके हाँथ में नहीं है* *पर व्यवहार आपके हांथों में हैं* *व्यवहारकुशल बने रहिये,* *सदैव प्रसन्न रहें।*l 🌹☘आपका हर पल सुंदर हो☘

*अभिमान तब आता है* *जब हमे लगता है हमने कुछ काम किया है,* *और* *सम्मान तब मिलता है जब दुनिया को लगता है, कि आप ने कुछ महत्वपूर्ण काम किया है* *जो दूसरों को इज़्ज़त देता है* *असल में वो खुद इज़्ज़तदार होता है* *क्योकि* *इंसान दूसरो को वही दे पाता है* *जो उसके पास होता है।* 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 💚💚💚💚💚💚💚💚💚💚 *🙏स्नेह वंदन🙏* 🌸 *सुप्रभात* --