Latest Shayari

Posted On: 09-08-2020

प्यार की बात भले ही करता हो जमाना... मगर प्यार आज भी "माँ" से शुरू होती है...

Posted On: 09-08-2020

ना तोल मेरी मोहब्बत को अपनी दिल्लगी से... देख कर मेरी चाहत अक्सर तराजू टूट जाते हैं...

जो राज थे वो राज रह गए... जो नाराज थे वो नाराज रह गए...

दिल रोज सजता है नादान दुल्हन की तरह... "गम" रोज चले आते हैं बाराती की तरह...

Posted On: 09-08-2020

कोई रूह का तलबगार मिले तो हम भी मोहब्बत करें... यहां दिल तो बहुत मिलते हैं, बस कोई दिल से नहीं मिलता...

Posted On: 09-08-2020

इश्क जब रूह में सिमटता है... मुस्कान बेहद हसीन हो जाती है...

संवर रही है आज वो किसी और के लिए, पर मैं बिखरा हूँ आज भी सिर्फ उसी के लिए!

Posted On: 08-08-2020

मित्रता दो शरीर में रहनेवाली एक आत्मा है.

Posted On: 08-08-2020

Friendship is a soul living in two bodies.

Dosti do sharir me rahnewali ek atma hai.

Posted On: 07-08-2020

मैं इसका हनुमान हूँ ये देश मेरा राम है छाती चीर के देख लो अन्दर बैठा हिन्दुस्तान है जय हिंदी जय भारत

Posted On: 07-08-2020

काश के बरस जाये यहाँ भी कुछ नूर की बारिशें के ईमान के शीशों पे बड़ी गर्द जमी है उस तस्वीर को भी कर दे ताज़ा जिनकी याद हमारे दिल में धुंधली हुई है

Posted On: 06-08-2020

कहीं फिसल न जाओ जरा संभल के चलना मौसम बारिस का भी है और मोहब्बत का भी

Posted On: 06-08-2020

ऐ बारिश जरा थम के बरस जब वो आ जाये तो जम के बरस पहले न बरस के वो आ न सके फिर इतना बरस के वो जा न सके....

Posted On: 06-08-2020

आज मौसम कितना खुश गवार हो गया खत्म सभी का इंतज़ार हो गया बारिश की बूंदे गिरी कुछ इस तरह से लगा जैसे आसमान को ज़मीन से प्यार हो गया