Latest Shayari

दिनांक02/02/2021 मंगलवार ~भाई का छोटा भाई Dear god मै आपको चिट्ठी लिखना तो नही चाहता था लेकिन जिंदगी की ऐसी लगी पड़ी है कि लिखने पर मजबूर कर दिया,मै उम्मीद करता हू कि स्वर्ग लोक मे आप मजे से होगे,वही मजा थोड़ा धरती वासी को भी दे दीजिए,यहा काफी तक़लीफ़ में जीवन काट रहा है सोचता कुछ हूँ होता कुछ है....📝

Woh mahnat kash bahadur kisaan mazdur sachcha hai Usko na sata Woh gareeb bad naseeb maa ka majbur bachcha hai

Zindagi sab ki ek si nahi hoti Kismat bhi alag alag hoti hai Kyun ki waqt ek sa nahi rahta Waqt achcha bura hoto rahta hai

मुझे लगता था मैं जिंदगी काट रहा हूँ , अब पता चला जिंदगी मेरा काट रही है...✍️ ~~भाई का छोटा भाई~

Tujhe khush rakh saku ye mere bas ki baat nahi Teri chaukhat par to main apni khushi ke liye aata hoon

Jo muqaddar mein likha hota hai wohi hota hai Sukh dukh paap ya punya ka bhog nahi hai Hum ne paapiyon ko shaan se jeete dekha hai aur punya atmaon ko tadap tadap ke jeete aur marte dekha hai

किसी के लिए अच्छा तो किसी के लिए बुरे बन गए, जिनको मैं अपना समझता था उनके ही नजरों में गिर गए..... ✍️ ~~भाई का छोटा भाई~

Woh apki mohabbat ne zinda rakha hai Warna zindagi se to kab ka dil uth chuka hai

दोस्ती मैंने कुछ इस कदर निभाई , कि अपनों के ही नजरों में गिर😭गया भाई....✍️ ~~भाई का छोटा भाई~

Mohabbat dilo ka khel hai Dekh na kahi dil na toote Kas ke pakad na haath kahin haath na chhoote

Dekh kahin teri zindagi na guzar jaye Intezaar ki umr badi lambi hoti hai

बुलाता हूँ, मगर आती नही है...📝 ~~भाई का छोटा भाई

पता चला है सिगरेट का नशा करता है, यार मेरा दूसरी दुकान में जाकर वफा करता है , सिगरेट छुप छुप के पीने वाले वे दिन चले गए , मेरा दोस्त अब सबके सामने नशा करता है....✍️ ~~भाई का छोटा भाई~

Subha hote hi nikal ta hoon zindagi ki talash mein Zindagi saath hi hoti hai magar ussey mulaqat nahi hoti hai

Subha to roz aati hai Suraj bhi roz nikal ta hai Par gareeb ki zindagi ka Din nahi badal ta hai