Latest Shayari

समाज में दहशत फ़ैली हैं और फ़ैला हुआ है डर अब सब को लौट कर आना होगा अपने अपने घर फ़कीर बादशाह साब ( FAKEERA)

सब धनवान अगर दिलदार हो जाए तो ये बे-रहेम दुनिया गुलो गुलज़ार हो जाए फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

दर्द काग़ज़ पर उतार कर देखो ज़रा दिल बहोत हल्का हल्का हो जाएगा फ़कीर बादशाह साब ( FAKEERA)

या रब मेरे मुझे तू बादशाह ए फ़कीर बना दे मै जिसको भी दुआ दूं उसकी तू तकदीर बना दे फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

मैंने तुझे बच्चे की तरह पाला है मेरा बाप मत बन जाना मुझे डस कर सांप मत बन जाना फ़कीर बादशाह साब ( FAKEERA)

जिसे तू धड़कन समझ ता है वोह की और के दिल की रानी है तू जिसका दीवाना है वोह किसी और की दीवानी है तू उसके लिए बेगाना है वोह तेरे लिए बेगानी है ये प्यार प्यार नहीं धोका है ये प्यार प्यार नहीं नादानी है चल कहीं और क़िस्मत आजमानी है फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

Posted On: 17-07-2020

उसका इतना सा किरदार है मेरे जीने में, कि उसका दिल धड़कता है मेरे सीने में!!

ना हिन्दू पाक है ना मुसलमान शुद्ध है अरे धर्म के नाम पर ये कैसी युद्ध है लड़ने मरने वाले भूखे नंगे गरीब और लड़ाने वाले अमीर धनवान समृद्ध है फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

नेताओं के फोटो देश के कोने कोने तक पहोच गए पर उनके मदद के हाथ उनके पड़ोसियों तक भी नहीं पहोच पाए फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

Posted On: 16-07-2020

Mein MAR K Chala Jaunga Tum Dhekte Rahena Mein MAR K Chala Jaunga Tum Dhekte Rehena Ish Duniya Mein Aur Tumko Kon Chayega Tumko Mere Jitna Tum Dhekte Rahena #SAGAR_R #BOXER🥊✍️

ये इंसानों की बस्ती है यहां इन्सान रहते है तू इसे हिन्दू या मुसलमान के इलाके ना बना फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

बादशाह और शहेनशाह भी डरते है उनको भी डर लगता है तू फ़कीर बन फ़कीर को कैसा डर फकीरा किसी से घबराता नहीं है फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

जब ना कोई आरज़ू ना कोई खौईश ना कोई तमन्ना तब हालात से क्या घबराना मुसीबत से क्या डरना फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

कोई क्या जाने क्या हो जाएगा कौन से पल हर एक मुलाक़ात को तू आखरी मुलाक़ात समझ के चल फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

कोई राजा तो कोई फ़कीर सब की अपनी क़िस्मत अपना नसीब सब का अपना मुकद्दर अपनी तकदीर कोई राजा तो कोई फ़कीर फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)