Dard Bhari Shayari

Nazaar chahti hai didaar krna Dil chahta hai pyaar krna Kya battaye iss dil ke alaam ko Naseeb me likha hai intezaar krna...

MERE JANAZE KE PICHE, SARA JAMANA NIKLA, PAR WOH NAHI NIKLA, JISKE LIYE MERA JANAZA NIKLA, WOH ATA BHI KAISE MERE JANAZE PR, QKI, MERE JANAZE KE PICHE USKA JANAZA NIKLA............

Wo khush hai par hum aaj bhi unke liye rote hai Kabhi mud ke dekh piche Hum aaj bhi tere sath ke liye tadapte hai

Teri bewafai aur mere dil ka tut Jana . . . Khush ho jaao jeet gye tum #broken

उजड़ी हुई जिंदगी हम फिर से बसायेंगे, आज नही तो कल हम भी मुस्कुरायेगे, बेशक तुम मत होना उस जिंदगी में, हम भी किसी और को अपना बनाएँगे।।

सुना है जबने मे सिकायेते करती फिरती हो हमारी, हमारा कशुर तो बता दे, अब क्या शहर छोड दे हम, एक हि तो जिंदगी है जिने दे हमारी जिने दे हमारी।।।

वो बदनाम होने से बच गया.. वो बदनाम होने से बच गया.. जहाँ दर्द था वही ज़ख्म मिल गया!

Jinki Galtiyon se v Maine Rishta Nibhaya h Usne Baar Baar Mujhe Faltu Hone ka Ehsaas Dilaya hai......

"तू याद रख या ना रख" "तू याद है ये याद रख"

Khud ko kho kr kuch paya fir door se dekha or akela hi paya

Zindagi tera bhi ajeeb silsila h me tujhe jee rhi hu ya tu mjhe

Jindegi kuch aise mod par agayi hai Hamesa face par ek smile reheti hai Par ander se tutneki aur bikharne ki dard hota hai Fir bhi face par muskurahat hai Bas koi jijo ki echa nehi hai Acha ho to thik hai Bura ho to koi baat nahi.... Fir bhi muskurahat hai......

Tees rupka majir main hoon kaha pehchanega Sach bhol nese log bura tho manega Kaam time bhoola ke deko koi nahi ayega Har bipadar shomay diyan se deko koi nahi ayega Agar koi mar jayga use nai bachayga Acha howa bhol ke shob hat tali Marega Dek dek chola jayga madad nai karega Kaam time karke deka tahu naam hain majir mera Majir akela eksho bhoola ke deko zoorat nahi kisika

कांटा चुभता हैं तो चलने नही देता । और जब किसी का दिल टूटता है तो जीने नहीं देता कांटा _ दिल का‌ हाल कुछ एक सा‌ ही है । कांटा चुभता हैं तो दिखता नहीं है और दिल टूटता है तो दिखता नहीं है। और दिल के जखम नासूर बनके दिल में कांटे की तरह चुभते है और जीना दुश्वार हो जाता और दिल में उसकी यादें कांटे की तरह चुभती हैं कांटा दिखता नहीं है और मेरा दिल उसके सिवा किसी से लगता नहीं है।‌‌‌

क्या दू में अपने चाहत का नजराना फकीर जो तूने बना दिया एक दिल बचा है इस सीने में ला खंजर दू निकाल मै तेरी हथेली पे