Latest Shayari

खौईशे बे सबर सी है दुआयें बे असर सी है हर पल की फिकर सी है ज़िन्दगी मुक्तसर सी है फ़कीर बादशाह साब ( FAKEERA)

मेरे आज़ाद जिस्म को क़ैद ए रूह मत देना बड़ी मुश्किल से काटी है साजा ए ज़िन्दगी मैंने फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

मै ज़िन्दगी से ज़िन्दगी भर लड़ा ज़िन्दगी को ज़िन्दगी से जीता ने के लिए पर ज़िन्दगी तो ज़िन्दगी से हार ही गई एसी आंधी चली मेरी ज़िंदगी में के मेरी ज़िन्दगी से मेरे ज़िन्दगी की बहार ही गई ज़िन्दगी तो ज़िन्दगी से हार ही गई फ़कीर बादशाह साब ( FAKEERA)

ज़िन्दगी मज़ाक नहीं है दोस्तों ज़िन्दगी मैदान ए जंग है एक तरफ खाई है एक तरफ आग का दरिया बीच में रास्ता बड़ा तंग है ज़िन्दगी मैदान ए जंग है फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

ना जाने कौन किसकी अकड़ में है मौत ज़िन्दगी की जकड़ में है या ज़िन्दगी मौत की पकड़ में है फ़कीर बादशाह साब ( FAKEERA)

तुझ में जो मीठास हैं वोह मिठास किसी रस में नहीं तुझे भूल जाऊ मै ये मेरे बस में नहीं फ़कीर बादशाह साब ( FAKEERA)

Posted On: 19-07-2020

Kisi Ko Roj Milne Se Love Ho Ya Na Ho Lekin, Kisi Se Roj Baat Karne Se Uski Aadat Zaroor Ho Jati Hai...!!!😥

Posted On: 18-07-2020

O DILA DI GAL KRDA JMANA E, LOK CHERA DEKH AJJ V PYAR KARDE, FAKE THOUGHT FAKE LIFESTYLE E, JEHRE MOONH TON MITHE PITH UTTE VAAR KRDE.... m@ngat kataniwala:)

Posted On: 18-07-2020

MANGAT SEYA...IK GAL APNE JEHAN CH RAKHI K HAR KOI NI KALAM DA MUREED HUNDA, MONEY-MINDED TU LAKH HO JA PUTT PAR PAISE NAAL HUNAR NI KHAREED HUNDA..... m@angat kataniwala

उनको मेरे हाल पर हैरत हो गई थी मै समझ बैठा था उनको मुहोबबत हो गई थी फ़कीर बादशाह साब ( FAKEERA)

तुम्हारी तस्वीर जैसी तस्वीर नहीं देखी मेरी ज़िन्दगी में तुम आ गए मेरी तकदीर जैसी तकदीर नहीं देखी फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)

कौन अच्छा है कौन बुरा है ये तो ख़ुदा जाने मेरा दिल तो सब को ही भला मैने फ़कीर बादशाह साब ( FAKEERA)

हम खुद के नहीं हो सके और ज़िद दुनियां को अपना बनाने की थी

समाज में दहशत फ़ैली हैं और फ़ैला हुआ है डर अब सब को लौट कर आना होगा अपने अपने घर फ़कीर बादशाह साब ( FAKEERA)

सब धनवान अगर दिलदार हो जाए तो ये बे-रहेम दुनिया गुलो गुलज़ार हो जाए फ़कीर बादशाह साब (FAKEERA)