Beautiful Shayari

Posted On: 06-09-2020

jab jab yaad kiya to tum aaye... Jab jab zindagi ko dekha to tum dikhaai diye... Kabh kabh sochte hain, nahi hamesha, Sab kuch tum ho jab se zindagi mai aaye...

जिंदगी की तपिश को सहन कीजिए जनाब, अक्सर वे पौधे मुरझा जाते हैं, जिनकी परवरिश छाया में होती है!!

कोई नहीं है मेरे दिल के करीब, इतनी बड़ी दुनिया और मैं इतनी गरीब.....

कोई नहीं है मेरे दिल के करीब, इतनी बड़ी दुनिया और मैं इतनी गरीब!

यादों के उन लम्हों को भूलाऊं कैसे दिल के कैमरे से तस्वीरों को मिटाऊं कैसे आती है जब याद तो तड़पता है दिल पर इस नासमझ दिल को समझाऊं कैसे.. Er. P Ranjan

जहां गुंजाइशें है, वही हर रिश्ता ठहरता है! अजमाइशें अक्सर रिश्ते तोड़ देती है!

जिनको मैंने जन्नत मानी है उसने मेरे लिए मन्नत मांगी है

मैने तुझे चांहा था तेरे प्यार के समंदर में डूबकर। जिन्दगी का हर ख्वाब अधूरा सा रह गया तेरा साथ छूटकर । लोग तो यूं ही कहा करते है कि हर मर्ज की दवा मिल जाती है। लेकिन मै कैसै मान लूं कि वो सीसा जुड जायेगा जो कल टूटा था भरी महफिल में उसके हाथों से छूट कर...!!

कोशिश करते रहें, हार हो या जीत... जीत गए तो मीत है हार गए तो प्रीत...

खुदा तेरा इंसाफ भी बहुतों को खटकता है, कोई भूखा, कोई आशिक, आखिर क्यों भटकता है..?

हर सांस सज़्दा करती है, हर नज़र में इबादत होती है... वो रूह आसमानी होती है, जिस दिल में मुहब्बत होती है...!!

नज़र में शोखिया लब पर मुहब्बत का तराना है, मेरी उम्मीद की जद़ में अभी सारा जमाना है, कई जीते है दिल के देश पर मालूम है मुझकों, सिकन्दर हूं मुझे इक रोज खाली हाथ जाना है..!!

प्यार की बात भले ही करता हो जमाना... मगर प्यार आज भी "मां" से शुरू होता है...

मुस्कुराओ क्या गम है, जिंदगी में टेंशन किसको कम है, अच्छा या बुरा तो केवल भ्रम है, जिंदगी का नाम ही.. कभी खुशी कभी गम है!!

Posted On: 18-08-2020

बहुत शिद्द्तों से बने आशियां की दीवारे-ए-दर्मिन्यां की दरारे भरने चला था मैं। मसरूफ इतना था की पता ही नही चला की कब दिवार मेरे उपर गिर गयी। अब न दर रहा न रही दिवार ओर ना ही रही कोई दरार। रहा सिर्फ दर्द,ज़खम वस ज़खम Vo shayar